3 year old boy growth chart: 3 year baby development : 3 साल के बच्‍चे में दिख रही हैं ऐसी प्रॉब्‍लम, तुरंत लगाएं डॉक्‍टर को फोन – 3 year old child development milestones

बच्‍चे के तीन साल पूरे होने पर पेरेंट्स काफी एक्साइटेड होते हैं। अब तो आपका बच्‍चा काफी कुछ सीख चुका होता है और आपसे बात भी करने लग जाता है। वैसे आपको बता दें कि हर बच्‍चे का विकास अलग होता है। ऐसा जरूरी नहीं है कि आपके बच्‍चे के साथ का ही दूसरा बच्‍चा जो कर सकता है, वो आपका बच्‍चा भी कर पाए। लेकिन कुछ डेवलपमेंट स्किल्‍स ऐसे होते हैं, जो नॉर्मली तीन साल के बच्‍चे को आने चाहिए।

अगर आपका बच्‍चा भी तीन साल का है, तो आपके लिए यह जानना बहुत जरूरी है कि इतना बड़े बच्‍चे का कितना विकास हो जाता है और उसे क्‍या-क्‍या स्किल्‍स आते हैं।

​कम्युनिकेशन और लैंग्‍वेज स्किल्‍स

तीन साल का बच्‍चा एक वाक्‍य बोलने के लिए कम से कम तीन शब्‍द एक साथ बोल लेता है। इतना बड़ा बच्‍चा आपकी हर बात को समझ सकता है और आपसे सवाल भी पूछ सकता है। अब आप आराम से बैठकर अपने बच्‍चे से बतिया सकते हैं।

यह भी पढ़ें : आपके तीन साल के बच्चे का इंडियन डाइट प्लान, हफ्तेभर की टेंशन होगी दूर

​कॉग्निटिव स्किल्‍स

ये बच्‍चे बहुत कुछ बोलना सीख जाते हैं। ये आपका पूरा नाम ले सकते हैं और गिनती सीख जाते हैं। 3 साल का बच्‍चा आसान पजल्‍स को भी सुलझा सकता है। आप उसे जो कहानी सुनाते हैं, वो आपको वापिस से उसके कुछ अंश बता सकता है। इतने बड़े बच्‍चे को आपकी बताई गई बातें और कहानियां याद रह सकती हैं।

यह भी पढ़ें : इस उम्र के बाद ही बच्‍चों को मिलना चाहिए अलग कमरा, पेरेंट्स की प्राइवेसी और प्‍यार नहीं होता भंग

​सोशल और इमोशनल डेवलपमेंट

इस उम्र के बच्‍चे दिन के समय खुद टॉयलेट जा सकते हैं। बच्‍चा अपने दोस्‍तों का नाम ले सकता है और ये भी बता सकता है कि उसका दोस्‍त लड़का है या लड़की। इस उम्र के बच्‍चे अपने साथियों के साथ जो भी गेम खेलते हैं, उसमें पूरी तरह से हिस्‍सा लेते हैं और उन्‍हें गेम समझने भी आने लगता है।

यह भी पढ़ें : 4 साल के बच्‍चे का डाइट चार्ट, शारीरिक और दिमागी विकास के लिए जरूरी हैं ये चीजें

​डॉक्‍टर को कब दिखाएं

हर बच्‍चे के विकास की दर अलग होती है लेकिन अगर आपको कुछ संकेत मिल रहे हैं, तो समझ लें कि आपके बच्‍चे का अपनी उम्र के हिसाब से देरी से विकास हो रहा है।

अगर बच्‍चा वाक्‍य नहीं बोल पा रहा है, आसान से निर्देश भी समझ नहीं पा रहा है, उसे अपनी उम्र के दूसरे बच्‍चों के साथ खेलने में दिक्‍कत आती है, कूद नहीं पाता, सेपरेशन एंग्‍जायटी है या पेंसिल या कलर को पकड़ कर एक लाइन भी नहीं बना पा रहा है तो आपको पीडियाट्रिशियन को दिखाना चाहिए।

बच्‍चे के विकास की दर पर नजर रखना बहुत जरूरी है क्‍योंकि इसी पर उसका आगे का भविष्‍य टिका होता है। सही समय पर डॉक्‍टर की मदद से आप काफी कुछ ठीक कर सकते हैं।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *