how to choose the right fertility clinic: गलत इनफर्टिलिटी क्‍लीनिक से टूट सकता है मां बनने का सपना, कैसे करें सही का चुनाव – how to choose the right fertility clinic in hindi

आजकल इनफर्टिलिटी के मामले बहुत ज्‍यादा बढ़ गए हैं। शादी के कई सालों बाद भी महिलाओं को कंसीव करने में दिक्‍कत हो रही है और इस वजह से उन्‍हें इनफर्टिलिटी क्‍लीनिकों के चक्‍कर लगाने पड़ते हैं।

प्रेगनेंट न होने के कारण का पता लगाने के बाद डॉक्‍टर कपल्‍स को इनफर्टिलिटी क्‍लीनिक जाने की सलाह देते हैं, जहां उनकी प्रॉब्‍लम के आधार पर ट्रीटमेंट का सुझाव दिया जाता है।

ऐसा जरूरी नहीं है कि हर फर्टिलिटी क्‍लीनिक अच्‍छा हो और वहां आपकी समस्‍या का समाधान मिल ही जाए। अपने लिए सही इनफर्टिलिटी क्‍लीनिक चुनने में आपको बारीकी से सोचना चाहिए।

अगर आप भी इनफर्टिलिटी क्‍लीनिक की तलाश कर रहे हैं, तो यहां हम आपको इससे जुड़ी कुछ जरूरी बातें बता रहे हैं। ये बातें आपको अपने लिए सही इनफर्टिलिटी क्‍लीनिक चुनने में मदद करेंगी।

​सबसे पहले पैसों को देखें

आपको ऐसा क्‍लीनिक चुनना है जिसे आप अफोर्ड कर सकते हैं। हर क्‍लीनिक की अलग फीस होती है लेकिन आप ये भी देखें कि अगर किसी क्‍लीनिक की फीस ज्‍यादा है, तो वो उस पैकेज में क्‍या-क्‍या सर्विस दे रहे हैं। अगर आपको किसी क्‍लीनिक में ज्‍यादा पैसों में अच्‍छी सर्विस और फैसिलिटी मिल रही है, तो उसे चुनने में कोई बुराई नहीं है।

यह भी पढ़ें : पहला बच्‍चा होने के बाद भी दूसरी बार में क्‍यों हो जाता है बांझपन

​सक्‍सेस रेट क्‍या है

जो भी क्‍लीनिक आप चुन रही हैं, उसके सक्‍सेस रेट के बारे में आपको पता होना चाहिए। आप पता करें कि उस क्‍लीनिक से ट्रीटमेंट लेने वाली महिलाओं को कंसीव करने में कितनी मदद मिली और कितने मामले फेल रहे।

हो सकता है कि किसी क्‍लीनिक का पुराना रिकॉर्ड अच्‍छा रहा हो, लेकिन अब उसके सक्‍सेस रेट में गिरावट आने लगी हो। क्‍लीनिक के स्‍टाफ और डॉक्‍टर, उपकरणों और स्‍टाफ की ट्रेनिंग के आधार पर भी पता लगा सकते हैं कि वहां पर ट्रीटमेंट का सक्‍सेस रेट क्‍या है।

जब भी आप कोई इनफर्टिलिटी क्‍लीनिक चुनें, तो उसकी मौजूदा स्थिति को देखें। ज्‍यादातर क्‍लीनिक अपनी वेबसाइट पर अपनी जानकारी और सक्‍सेस रेट बढ़ा-चढ़ाकर बताते हैं। इसलिए आप खुद जाकर परामर्श कर के यह निर्णय लें कि आप जो क्‍लीनिक चुन रहे हैं, वो सही है या नहीं।

यह भी पढ़ें : कुछ ऐसे संकेत जो बताते हैं, मां बनने के लिए तैयार नहीं है आपका शरीर

​ट्रीटमेंट के लिए एलिजबिलिटी

कुछ क्‍लीनिकों में ट्रीटमेंट के लिए उम्र और बॉडी मास इंडेक्‍स पर ध्‍यान दिया जाता है। वहीं कुछ क्‍लीनिक प्राइवेट मरीजों को ही देखते हैं। अपने लिए इनफर्टिलिटी क्‍लीनिक चुनने के बाद, हर एक को फोन कर के ट्रीटमेंट के लिए उनके स्‍पेशल क्राइटीरिया के बारे में पूछें। इससे आपके समय की बचत होगी और आपको हर एक क्‍लीनिक में जाकर कंसल्‍ट नहीं करना पड़ेगा।

आपको यह जानकारी क्‍लीनिक की वेबसाइट पर भी मिल सकती है।

यह भी पढ़ें : हैरान कर देंगे बांझपन और आईवीएफ से जुड़े ये भ्रम, जानें सच

​लोकेशन और टाइम

अगर इनफर्टिलिटी क्‍लीनिक आपके घर से दूर है, तो हर बार टेस्‍ट के लिए आपको जाने में दिक्‍कत होगी और आपको पास की ही किसी लैब से टेस्‍ट करवाने पड़ेंगे। कोशिश करें कि इनफर्टिलिटी क्‍लीनिक आपके घर के नजदीक ही हो जिससे टेस्‍ट और चेकअप के लिए जाने में आपको दिक्‍कत न हो।

वहीं अगर आपको जो क्‍लीनिक पसंद आया है, वो घर से दूर है तो आप किसी नजदीक अस्‍पताल या लैब से टेस्‍ट करवा लें।

कई बार ऑफिस और घर की जिम्‍मेदारियों की वजह से भी बार-बार टेस्‍ट या चेकअप के लिए जाना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में आप अपने समय के हिसाब से क्‍लीनिक चुन सकती हैं।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *