how to get rid of bad breath in a child: Bad breath in kids : बच्‍चों के मुंह से बदबू आने पर उठानी पड़ सकती है शर्मिंदगी, घरेलू नुस्‍खों भगाएंगे दुर्गंध – home remedies for bad breath in babies and toddlers in hindi

​बदबू पैदा करने वाली चीजें

6 महीने के बाद शिशु को ठोस आहार खिलाना शुरू किया जाता है और इसके बाद शायद शिशु को सब कुछ खिला सकते हैं जैसे कि लहसुन और प्‍याज भी। लहसुन और प्‍याज जैसी तेज गंध वाली चीजें खाने से मुंह से बदबू आती है इसलिए अगर बच्‍चे को पहले से ही ये परेशानी है, ताे उसे प्‍याज और लहसुन वाली चीजें न खिलाएं।

हालांकि, इन चीजों में शिशु के लिए कुछ जरूरी पोषक तत्‍व होते हैं। लहसुन और प्‍याज को अलग तरीके से देकर बच्‍चे को इसका लाभ भी मिल सकता है और सांस से बदबू आने की परेशानी से भी बचा जा सकता है।

​पत्तियों का रस

पुदीने और पार्सले जैसी जड़ी बूटियों में क्‍लोरोफिल होता है जो कि सांस की बदबू दूर करने के लिए एक शक्‍तिशाली एंटीडोट है।

इसके अलावा नींबू का रस भी मुंह की बदबू को दूर करने का काम करता है। नींबू के रस में हल्‍का सिट्रिक एसिड होता है जो मुंह में बैक्‍टीरिया को बढ़ने से रोक सकता है। खाना खाने के बाद एक चम्‍मच नींबू का रस पीने से मुंह की बदबू की परेशानी दूर हो सकती है।

यह भी पढ़ें : बच्‍चों के लिए टूथपेस्‍ट चुनने में इन बातों को किया नजरअंदाज, तो जिंदगीभर के लिए सड़ जाएंगे दांत

​हरी सब्जियां करें शामिल

शिशु के विकास के लिए हरी सब्जियां बहुत जरूरी होती है और इससे मुंह से बदबू आने की परेशानी को भी कम किया जा सकता है। हरी सब्जियों में क्‍लोरोफिल और उच्‍च मात्रा में फाइबर होता है।

ये माइक्रो फाइबर्स मुंह में जमा बैक्‍टीरियल प्‍लाक को साफ कर सकते हैं। वहीं फाइबर भी पाचन प्रक्रिया के दौरान विषाक्‍त पदार्थ बनने से रोकता है। इससे पाचन प्रक्रिया के दौरान गैस कम बनती है जिससे मुंह से बदबू आने की आशंका कम होती है।

यह भी पढ़ें : बच्चे को ब्रश कराने का सही तरीका और सही उम्र क्या है, जानें

​एप्‍पल साडर विनेगर

एप्‍पल साइडर विनेगर सांस की बदबू को पूरी तरह से खत्‍म कर सकता है। इसमें एंटीबैक्‍टीरियल गुण होता है जो बैक्‍टीरिया को बढ़ने से रोकने के लिए पीएच लेवल को स्‍टोर कर के रखता है।

एप्‍पल साइडर विनेगर एसिडिक होता है। खाना खाने के बाद एक चम्‍मच एप्‍पल साइडर विनेगर को एक गिलास पानी में डालकर पिलाएं। ये नुस्‍खा थोड़े बड़े बच्‍चों के लिए ही है।

नारियल के तेल में उच्‍च मात्रा में एंटीमाइक्रोब्रियल गुण होते हैं। खाना खाने के बाद एडिबल कोकोनट ऑयल से बच्‍चे के मुंह को साफ करने से भी सांस से बदबू आने की परेशानी दूर होती है। एडिबल कोकोनट ऑयल से शिशु को कोई खतरा नहीं है। इससे मुंह की सफाई करने के बाद हमेशा गर्म पानी से मुंह को जरूर साफ करें।

यह भी पढ़ें : बच्‍चों के दूध के दांतों की देखभाल करने का सही तरीका

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *