judwa bache kaise hote hai: जुड़वा बच्‍चे पैदा करने के लिए, इन तरीकों से बढ़ाएं अपनी फर्टिलिटी – how to conceive twins and boost fertility for twin pregnancy in hindi

बच्‍चे का आना, खुशियों को दस्‍तक देता है और जब जुड़वा बच्‍चे पैदा हों, खुशियां भी दोगुनी हो जाती हैं। अगर आप भी अपने लिए जुड़वा बच्‍चे चाहते हैं, तो इस काम में कुछ चीजें आपकी मदद कर सकती हैं।
जुड़वा बच्‍चे होने की संभावना फैमिली हिस्‍ट्री, फर्टिलिटी ट्रीटमेंट और महिला के शरीर पर निर्भर करती है। जुड़वा बच्‍चे दो तरह से कंसीव होते हैं – एक आइडेंटिकल और दूसरा फ्रेटरनल।
जब एक फर्टिलाइज एग टूटकर दो भ्रूण बनाता है, तो इसे आइडेंटिकल ट्विन कहते हैं। दो स्‍पर्म से दो एग के फर्टिलाइज होने को फ्रेटरनल एग कहते हैं। आइडेंटिकल ट्विंस कंसीव करना एक नैचुरल प्रक्रिया है लेकिन आप कुछ चीजों की मदद से फ्रेटरनल रूप से जुड़वा बच्‍चे पैदा कर सकते हैं, आइए जानते हैं कैसे।

​सेक्‍स पोजीशन

सेक्‍स पोजीशन से भी कंसीव करने में मदद मिलती है। जुड़वा बच्‍चों के लिए आप मिशनरी पोजीशन, रियर एंट्री सेक्‍स पोजीशन, सिजरिंग पोजशीशन में सेक्‍स कर सकते हैं। इन पोजीशन में डीप पेनिट्रेशन होता है और ओवुलेशन के समय आप आसानी से कंसीव कर लेती हैं।

यह भी पढ़ें : बेटी चाहती हैं तो इस तरह करें सेक्स, ये है कंसीव करने का सही तरीका

​जड़ी बूटियां करेंगी मदद

कुछ जड़ी बूटियां प्रजनन ऊतकों में रक्‍त प्रवाह, ओवरी के कार्य करने की क्षमता में सुधार और जुड़वा बच्‍चों के लिए फर्टिलिटी और ओवुलेशन काे बढ़ाने में मदद कर सकती हैं।

माका रूट फर्टिलिटी को बढ़ाने वाली जड़ी बूटी है। इसकी मदद से आप जुड़वा बच्‍चे कंसीव कर सकती हैं। हालांकि, माका रूट की वजह से मूड स्विंग्‍स की दिक्‍कत बहुत ज्‍यादा होती है।

इसके अलावा ईवनिंग प्रिमरोज ऑयल महिलाओं की प्रजनन से संबंधी समस्‍याओं को दूर करता है। इसकी मदद से भी जुड़वा बच्‍चे होने की संभावना को बढ़ाया जा सकता है।

यह भी पढ़ें : प्रेगनेंसी में मिल रहे हैं ये संकेत तो जुड़वां बच्‍चे होंगे

सप्‍लीमेंट्स

गर्भावस्‍था में शिशु के सही विकास और मां के स्‍वस्‍थ रहने के लिए फोलिक एसिड और कई तरह के विटामिन जरूरी होते हैं। उच्‍च मात्रा में फोलिक एसिड युक्‍त सप्‍लीमेंट और मल्‍टीविटामिन लेने से ट्विन प्रेग्‍नेंसी की संभावना को बढ़ाया जा सकता है। इसकी संभावना सप्‍लीमेंट ना लेने वाली महिलाओं में कम होती है।

यह भी पढ़ें : इन फर्टिलिटी ट्रीटमेंट से बढ़ जाती है जुड़वा बच्चे होने की संभावना

​डायट भी है जरूरी

जुड़वा बच्‍चों के लिए कंसीव करने में पोषण सबसे ज्‍यादा अहम होता है। अगर आपने जुड़वा बच्‍चे कंसीव भी कर लिए, तो भी प्रेग्‍नेंसी को बनाए रखने और बच्‍चों की स्‍वस्‍थ डिलीवरी के लिए आपको पर्याप्‍त न्‍यूट्रिशियन की जरूरत होती है। कुछ खाद्य पदार्थ जैसे कि डेयरी प्रोडक्‍ट्स, सोया और मछली जुड़वा बच्‍चे कंसीव करने में मदद कर सकते हैं।

हालांकि, इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि इन चीजों को खाने से आपके जुड़वा बच्‍चे ही होंगे। इससे सिर्फ आपके जुड़वा बच्‍चे कंसीव करने की संभावना बढ़ती है। फैमिली हिस्‍ट्री, मां की लंबाई, वजन और उम्र पर भी ट्विन प्रेग्‍नेंसी निर्भर करती है।

यह भी पढ़ें : जुड़वा बच्‍चे पैदा करने हैं तो डायट में लें ये चीजें

​वजन और लंबाई

कुछ अध्‍ययनों के अनुसार मोटी और 30 से अधिक बीएमआई वाली महिलाओं में संतुलित वजन वाली महिलाओं की तुलना में ट्विन प्रेग्‍नेंसी की संभावना ज्‍यादा होती है। ऐसा एस्‍ट्रोजन के बढ़े हुए लेवल के कारण हो सकता है जिससे एक्‍स्‍ट्रा फैट से दो एग रिलीज हो सकते हैं। हालांकि, प्रेग्‍नेंसी से पहले महिला का मोटा होना गर्भावस्‍था में कई तरह की जटिलताएं पैदा कर सकता है।

5 फुट 4.8 इंच से लंबी महिलाओं में भी ट्विन प्रेग्‍नेंसी के चांसेस ज्‍यादा होते हैं। इसके अलावा लंबी महिलाओं और पेट में जुड़वा बच्‍चे होने पर प्रीटर्म डिलीवरी का खतरा कम होता है।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *