Urinary Incontinence After Childbirth Treatment : डिलीवरी के बाद नहीं रोका जाता है पेशाब, इन टिप्‍स से बन सकती है बात

​पेशाब ना रोक पाने का कारण

शिशु को जन्‍म देने की वजह से शरीर में कई तरह के बदलाव आते हैं। पेट में बच्‍चे के लिए जगह बनाने के लिए कई अंगों को एडजस्‍ट करना पड़ता है और इससे मूत्राशय और पेल्विक हिस्‍से की मांसपेशियों पर दबाव भी पड़ता है जिससे की इन अंगों में कमजोरी भी आ जाती है।

शरीर डिलीवरी के लिए खुद को तैयार करने के लिए कूल्‍हे के जोड़ ढीले पड़ जाते हैं और गर्भाशय में खिंचाव आता है। जन्‍म नलिका से शिशु के निकलने पर पेल्विक हिस्‍से की मांसपेशियों, हड्डियों और लिगामेंट्स में भी खिंचाव आता है। डिलीवरी के बाद इन्‍हें ठीक होने में लगभग छह सप्‍ताह का समय लग जाता है।

डिलीवरी के बाद मूत्राशय को प्रभावित करने वाले हार्मोनल बदलाव होते रहते हैं जिससे मूत्राशय पर दबाव पड़ता है और वो कमजोर हो जाता है। ऐसे में मूत्राशय की पेशाब को रोकने की क्षमता प्रभावित होती है।

यह भी पढ़ें : ये होते हैं महिलाओं में UTI के लक्षण, उपचार में ना करें देरी

​पेशाब न रोक पाने का इलाज

डिलीवरी के बाद अगर आपको भी पेशाब ना रोक पाने की शिकायत हो रही है तो कुछ घरेलू उपायों की मदद से आप इस समस्‍या को ठीक कर सकती हैं :

  • अगर हो सके तो कीगल एक्‍सरसाइज करें। इससे पेल्विक मांसपेशियों को मजबूती मिलती है। दिन में तीन बार कीगल एक्‍सरसाइज करें और धीरे-धीरे इसे बढ़ाते रहें।
  • पेशाब आने पर उसे रोकने की कोशिश ना करें। हर दो से तीन घंटे में पेशाब करने जाएं। अगर आपको बार-बार पेशाब आ रहा है तो अपने मूत्राशय को ठीक तरह से काम करने की ट्रेनिंग दें। हर 30 से 60 मिनट में पेशाब करने जाएं और फिर धीरे-धीरे इस समय को बढ़ाती रहें।

यह भी पढ़ें : ‘यूरिन इन्फेक्शन से खराब हो सकती है किडनी’

​जीवनशैली में बदलाव

डिलीवरी के बाद अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव कर के आप अपनी पेशाब रोकने की क्षमता को बढ़ा सकती हैं। अपने खाने में फल और सब्‍जियों को शामिल करें। इसमें फाइबर युक्‍त चीजें लें और कॉफी, कैफीन, मसालेदार चीजें और रिफाइंड शुगर ना लें।

वजन घटाने के लिए एक्‍सरसाइज करें। इससे शरीर के सभी अंग एक्टिव रहते हैं। दिनभर में कम से कम 8 गिलास पानी जरूर पिएं। इससे मूत्राशय और शरीर साफ रहता है और मूत्र मार्ग में संक्रमण नहीं होता है। इस तरह शरीर में पानी की कमी भी नहीं होती है।

यह भी पढ़ें : बार-बार करते हैं पेशाब तो हो जाएं सावधान

​दवाओं की मदद

पेशाब रोकने और ब्‍लैडर कंट्रोल को बढ़ाने के लिए आप दवाओं या सपोर्ट डिवाइसेस की मदद भी ले सकती हैं। डॉक्‍टर की सलाह से आप इन तरीकों को अपना सकती हैं।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *