home remedies for gas: न करें ये काम, पेट में गैस की समस्या को बढ़ा देती है ये आदतें, पढ़ें Home Remedies – home remedies for gas and acidity problem in hindi

नई दिल्ली। गैस एक ऐसी समस्या है जिससे कई लोग परेशान हैं। गैस पाचन तंत्र का एक सामान्य हिस्सा है। पाचन तंत्र ठीक से काम करने पर गैस होती है और ये फार्ट और बर्प के माध्यम से निकलती है। अगर गैस ठीक से पाचन तंत्र में नहीं चल रही है या बाहर नहीं निकल रही होती है तो उससे दर्द की समस्या उत्पन्न होती है। पेट में गैस या गैस का दर्द उन फूड्स के सेवन से हो सकता है जो कि अधिक गैस पैदा करते हैं।

खाने की आदतों में कुछ सुधार करने पर परेशान करने वाली गैस को कम किया जा सकता है। वैस डकार आना सामान्य है और खासतौर पर खाने के बाद ये बिलकुल सामान्य है। सामान्य व्यक्ति एक दिन में करीब 20 बार तक गैस पास कर सकता है। वहीं अगर से सामान्य से अधिक हो रही है और इसकी वजह से शरीर में दर्द की समस्या हो रही है तो ये एक मेडिकल प्रोब्लम है, जिसके लिए डॉक्टर की सलाह जरूरी है। अगर आप भी गैस की समस्या से परेशान रहते हैं तो आज हम आपको कुछ ऐसे तरीकों के बारे में बता रहे हैं, जिनको त्याग कर या कम करके आप गैस की समस्या को कम कर सकते हैं।
यह भी पढ़ें: वजन घटाने के नियम: रोज सुबह उठते ही पिएं 2 गिलास गर्म पानी, एक घंटे बाद करें नाश्‍ता

2

यह भी पढ़ें: क्या आप भी सुबह खाली पेट खाते हैं ये चीजें? जानिए क्या खाने से पड़ सकते हैं बीमार

गैस होने की वजह

  1. पेट में गैस आने की वजह सामान्य तौर पर खाते या पीते वक्त निगलने वाली हवा के कारण होती है। जब आप डकार लेते हैं तो सबसे ज्यादा पेट की गैस निकलती है।
  2. पेट में आपकी बड़ी आंत (कोलन) में गैस तब बनती है जब बैक्टीरिया उत्तेजना करते हैं। जैसे फाइबर, कुछ स्टार्च और कुछ सुगर जब छोटी आंत में पचती नहीं तो गैस की समस्या होती है।
  3. इस दौरान बैक्टीरिया भी गैस के कुछ हिस्सा का उपभोग करते है। वहीं जब एक व्यक्ति पाद मारता है तो गैस गुदा के जरिए निकल जाती है।
  4. कुछ सामान्य फूड्स जैसे बीन्स और मटर, फल सब्जियां, साबुत अनाज गैस का कारण बनते हैं।
  5. हाई फाइबर फूड्स गैस उत्पादन को बढ़ाते हैं। वैसे फाइबर शरीर के पाचन तंत्र को अच्छी तरह से कार्य करने और ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रॉल के लेवल को कंट्रोल करने के लिए बहुत जरूरी है।
  6. सोडा और बीयर जैसे कार्बोनेटेड ड्रिंक पेट में गैस की समस्या को बढ़ाते हैं।
  7. खाने की अलग आदतें बहुत जल्दी खाना, पाइप के जरिए पानी पीना, च्विंग गम चबाना, कैंडीज खाना या चबाना और खाते वक्त बात करने से पेट में अधिक हवा जाती है जो कि गैस का कारण बनती है।
  8. साइलियम युक्त फाइबर सप्लिमेंट जैसे मेटामुकिल कोलोन गैस में वृद्धि कर सकते हैं।
  9. शुगर फ्री फूड्स में और ड्रिंक में पाए जाने वाले शुगर के ऑप्शन या आर्टिफिशिएल शुगर जैसे कि सॉर्बिटोल, मैनिटोल और जाइलिटोल अधिक कोलन गैस की वजह बन सकती हैं।

हल्‍दी के साथ मिलाकर खाएं काली मिर्च, नहीं पड़ेगी डॉक्‍टर की जरूरत

लक्षण:

  1. गैस या गैस दर्द के लक्षण कुछ इस प्रकार हैं:
  2. डकार
  3. गैस पास होना
  4. दर्द, ऐंठन या पेट में एक गांठ जैसा महसूस होना
  5. पेट फुल लगना या दबाव जैसा लगना
  6. पेट के आकार में वृद्धि

ब्रेकफास्ट में खाएँ क्विनोआ, पूरे दिन बनी रहेगी एनर्जी

अगर आपको गैस की समस्या अधिक हो रही है या गैस का दर्द हो रहा है तो इसके लिए आपको डॉक्टर को दिखना जरूरी है। अगर आपको मल में खून, मल में बदलाव, मल करने में परिवर्तन, वजन घटना, कब्ज, दस्त, लगातार उल्टी हो रही है तो आपको इसके लिए डॉक्टर के पास जाने की जरूरत है। वहीं अगर आपको लंबे समय तक पेट में दर्द या छाती में दर्द दर्द हो रहा है तो इसके लिए आपको तुरंत डॉक्टर के पास जाने की जरूरत है।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *