Can a girl and guy be just friends: क्या लड़का और लड़की सिर्फ दोस्त हो सकते हैं? – can men and women be just friends

स्कूल से लेकर कॉलेज और यहां तक कि ऑफिस में भी मेल-फीमेल फ्रेंडशिप देखने को मिलती है। हालांकि, अगर अपोजिट सेक्स के फ्रेंड्स के बीच ज्यादा गहरी बॉन्डिंग दिखे, तो लोग उनके रिलेशनशिप में होने के बारे में गॉसिप करने से चूकते नहीं हैं। ज्यादातर लोग अभी भी मानते हैं कि लड़का और लड़की कभी भी ‘सिर्फ दोस्त’ नहीं हो सकते हैं। लेकिन क्या सच में ऐसा है?

क्या सिर्फ फ्रेंडशिप पॉसिबल है?
एक सर्वे के मुताबिक, मेल्स और फीमेल्स के बीच दोस्ती बिल्कुल संभव है। हर आम फ्रेंडशिप की तरह ही इस दोस्ती की शुरुआत भी ज्यादातर मामलों में किसी चीज को लेकर कॉमन इंट्रेस्ट से होती है। ऐसे रिश्ते जो सिर्फ दोस्ती तक ही सीमित रहते हैं, उनमें लड़का और लड़की एक-दूसरे को लगभग उसी तरह ट्रीट करते हैं, जैसे वे अपने सेम सेक्स के फ्रेंड्स को करते हैं। हां, ये जरूर है कि मेल फ्रेंड्स अपनी फीमेल फ्रेंड्स को लेकर ज्यादा प्रटेक्टिव होते हैं।

रोमांस के चांस?
जर्नल ऑफ सोशल ऐंड पर्सनल रिलेशनशिप्स में प्रकाशित एक स्टडी की मानें, तो ऐसे रिश्तों में कहीं न कहीं रोमांस के चांस भी मौजूद होते हैं। शोधकर्ताओं के अनुसार ‘हमें लगता है कि हम सिर्फ दोस्त रह सकते हैं, लेकिन सच तो यह है कि किसी मौके पर इसमें रोमांस भी एंटर हो सकता है।’ हालांकि, इसमें यह भी सामने आया कि ऐसे रोमांस के चांस में ज्यादातर वन साइड लव ही होता है, जिसके सफल होने के चांस दूसरे व्यक्ति के रिऐक्शन पर निर्भर करते हैं।

मेल-फीमेल फ्रेंडशिप

ये बाते हैं इशारा कि आपके बेस्ट फ्रेंड को हो गया है आपसे प्यार

मेल फ्रेंड्स होते हैं ज्यादा अट्रैक्ट

दोस्ती में वन साइड लव या अट्रैक्शन की बात की जाए, तो इसमें मेल्स का पर्सेंट ज्यादा होता है। यह बात ‘अट्रैक्शन इन क्रॉस-सेक्स फ्रेंडशिप’ नाम की स्टडी के लिए किए गए सर्वे में सामने आई थी। इस सर्वे में भाग लेने वाले मेल्स ऐंड फीमेल्स के अपने अपोजिट सेक्स के फ्रेंड्स को लेकर अलग-अलग रिऐक्शन सामने आए थे।

लड़का-लड़की दोस्ती

स्टडी के मुताबिक, इस तरह की दोस्ती में मेल्स के फीमेल दोस्त के प्रति आकर्षित होने के चांस ज्यादा रहते हैं। साथ ही ज्यादातर मामलों में पुरुष इस बात को मानते हैं कि उनकी दोस्त भी उनके लिए अट्रैक्शन फील करती है, जबकि यह सच नहीं होता है। वहीं महिलाओं के मामले में ये स्थिति ठीक उल्टी है। अपने मेल दोस्त के लिए अट्रैक्शन फील नहीं करने वाली महिलाएं मानती हैं कि उनके दोस्त भी उनके लिए ऐसा फील नहीं करते हैं, फिर चाहे सच जो भी हो।

क्यों छिपाते हैं फीलिंग्स?
कई मामलों में दोस्त फीलिंग्स जाहिर कर देते हैं, तो कुछ केस में वे इन्हें सीक्रेट ही बनाए रखना प्रिफर करते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि उन्हें यह अच्छे से पता होता है कि एक तरफा अट्रैक्शन या प्यार की बात उनकी दोस्ती को हमेशा के लिए बदलकर रख देगी और क्लोज फ्रेंडशिप में भी दूरी आने लगेगी।

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *